Search This Blog

Friday, July 05, 2013

मकसद


  •        आपको भावुक कर दूं , 

                             ऐसा मेरा मकसद नही !
             आपसे बढ़ाई के दो बोल सुनु , 
                             ऐसी मेरी फितरत नही !
             कोशिश मात्र इतनी है , 
                         मन के भाव बतला सकूं !
             दिल में छिपा है क्या ,
                         आपको भी दिखला सकूं !!


  •        कलम की रतार दिखला सकूं , 

                       एक क्षण ही सही, 
             आपकी चिंताएं मिटा सकूं !
                     पढ़कर आप मुस्कुराएं ,
             तो पीठ अपनी थपथपा सकूं !!
                   दिल में छिपा है क्या ,   आपको भी दिखला सकूं !!

  •       मन की पीड़ा मिटा सकूं , 

                   कुछ राहत मन को दिला सकूं !
            चारों और खिंच गई , 
                    हर दीवार गिरा सकूं !
            सालों से जमती रही , 
                   मन की गर्त हटा सकूं !!
             दिल में छिपा है क्या , आपको भी दिखला सकूं !!

  •      चाहता हूँ ,मन को अपने,

                  मस्ती में लहरा सकूं !
           विदाई में तुम्हारे , 
                   हाथ मैं भी हिला सकूं ! 
            सीने में क्या छिपा है , 
                   बिना चीरे ही दिखला सकूं !
            दिल में छिपा है क्या , आपको भी दिखला सकूं !!

  •      चाहता हूँ ,

           जीवन में लगी तमाम शर्तो को,  
                    एक ही पल में हटा सकूं !
          फिर से जीने के लिए,  
                   नई बुनियाद बना सकूं !
          अनजाने में बन गई , 
                   हर दूरी मिटा सकूं !
          यादों में तुम्हारी खो, दो बोल गुनगुना सकूं !!
                 कोशिश मात्र इतनी है , 
          दिल में छिपा है क्या , आपको भी दिखला सकूं !!

                     
               पूर्व में ओ बी ओ पर प्रकाशित मेरी रचना ।