Search This Blog

Monday, July 08, 2013

जंग


  • कलम हाथ में लिए, 

              कागज पर नैन गड़ाये था । 
       भावनाओं की खोज में दौड़ता मन ,
              कुछ शब्दों को रूप दे पाया था ।
       जाने क्यूं कलम अचानक ठहर गई ,
              मानो घरेलू सियासत रंग चढ़ गई !

  • बदला रूप देख कर उसका,

             मन ने भी सियासत दिखलाई !
       अपने विरोधी बयानो से ,
            कलम की बैचेनी बढ़ाई !
       दो तरफा बयानों के दौर में,
            मन ने की चंचल चतुराई !
       कलम तो मेरी दासी है ,
            इस बयान से की उसकी खिंचाई !

  • इनकी बढ़ती लड़ाई ने ,

             तन की बैचेनी बढ़ाई !
      कोशिश करके भी भावनाएं ,
             रूक नही पाई !
      सुन्दर नयनों ने भी अपनी ,
           अश्रुधारा कागज पर गिराई ,
      शब्द भीगते ही कलम, भावुक हो गई,
           अंगुलियों की पकड़ शिथिल हो गई !

  • जंग से रूक गया जब काम,

               तन ने मुखिया की भूमिका निभाई !
       मन तुम सबसे चपल व तेज हो , 
              हमारी करते हो अगुआई !
       पर कलम के बिना आज तक,
             तुम्हारी बात क्या पुरी हो पाई ?
       सब एक दूजे बिन अधुरे है,
            ये समझा उनमें सुलह कराई !
        तब जाकर यह कविता पूर्ण हो पाई !