Search This Blog

Sunday, June 30, 2013

प्रकृति छल

 


  •         सुदूर देव पहाड़ियों में,

                     बादलों ,चट्टानों में जंग नजर आई !
             शांति की तलाश में भटकते इंसा को,
                      सृष्टि एक बार फिर छल पाई !


  •        पार्टियों की पार्टी में ,

                    मच गई कैसी हलचल !
             अनेकों भीगती आँखों के बीच ,
                    कुछ में ग्लिसरीन नजर आई !
             असली हो या नकली ,
                   हर तरफ मायूसी छाई !


  •       आसमां के कहर रूपी नीर की बूंद,

                    धरती के संग-संग हर आँख में समाई ! 
              किसी को प्रियजन की याद ने रूलाया,
                    किन्ही में हमेशा के लिये विरानी छाई !
              हर चेहरा निस्तेज,असहाय नजर आया,
                    रहनूमाओं की असलीयत दिख पाई !

  •        जब जब इंसा ने विज्ञान संग मिल,

                     प्रकृति से जीतने की चाह दिखलाई !
             प्रकृति ने अपने किसी खेल से,
                     इंसा को उसकी सीमा दिखलाई !
             इस बार फिर साँप सीढ़ी के खेल में ,
                    नीर रूपी साँप ने फुफकार लगाई !
             हमें असहाय देख प्रकृति मुस्कुराई ,
                  हमारी कोटी वापस नीचे नजर आई !