Search This Blog

Sunday, July 21, 2013

पिता


  • सघन वृक्ष सा विशाल अडिग,

                  तपन में शीतलता देता !
         तुफानों से हर पल लड़ता ,
                फिर भी सदा सहज वो दिखता !
        अपनी इन्हीं बातो के कारण ,
               वो एक पिता कहलाता !


  • कठोर सा यह दिखने वाला ,

               दिल से कोमलता दिखलाता !
        बेटी के दर्द से विचलित ,
              डान्ट वरी माई डॉटर कहता !
       पर उसकी विदाई पर वो ,
             खुद को असहाय है पाता !
       लाख चाहकर भी वो अपने,
            अनवरत आँसू रोक ना पाता !
      अपनी इन्हीं बातो के कारण ,
            वो एक पिता कहलाता !


  • बात बात पर डाँट लगाता ,

              सुरक्षा का बोध कराता !
        ममतामयी माँ भी जब डाँटे ,
              पिता बचा ले जाता !
       समाज की नित बंदिशों को ,
             पिता तोड़ है पाता !
      बेटी की एक चाहत पर वो ,
            समाज से लड़ जाता !
      बेटी को पढ़ा लिखा कर ,
           नया केरियर दिलवाता !
     अपनी इन्हीं बातो के कारण ,
           वो एक पिता कहलाता !

  “ ओ बी ओ पर प्रकाशित मेरी रचना