Search This Blog

Sunday, July 21, 2013

चाहत


  • पिता हूँ , शायद कह ना पाऊँ, 

                 माँ सा प्यार ना दिखला पाऊँ !
         चाहत है पर मन में इतनी,
                 प्यार में नम्बर दो कहलाऊँ !


  • जीवन की हर कठिन डगर में,

               साथ खड़ा हो पाऊँ !
         जब जब तुम्हें धूप सताये ,
               छॉव मैं बन जाऊँ !
        माँ तो नम्बर एक रहेगी ,
             मैं , नम्बर दो कहलाऊँ !


  • समुंद्र भले ही कोई कहे ,

             आँसुओं से बह जाऊँ !
         तुम्हारी एक आह पर ,
             विचलित मैं हो जाऊँ !
        पत्थर हूँ ,
             पर ,सुनकर दर्द तुम्हारे ,
       मोम सा पिघल जाऊँ !
           लड़ना पड़े चाहे तुफानों से ,
      तुम्हें बचा ले जाऊँ !
           चाहत है पर मन में इतनी,
     प्यार में नम्बर दो कहलाऊँ !
 
         ओ बी ओ पर प्रकाशित मेरी रचना