Search This Blog

Monday, August 19, 2013

सूत का धागा

सूत चाहे कच्चा हो, 
              रिश्ता बहुत गहराता है।
      एक छोटा धागा राखी बन, 
              बड़ा अहसास करवाता है।

भागमभाग जीवन में जब जब,
               यह प्यारा दिन आ जाता है।
       स्नेह से भीगती पलकों को,
               बचपन याद करवाता है।

भोली भाली छुटकी हो या,
               सीख सिखाती बड़ी बहना।
       प्यार से बाँधा यह बन्धन,
              माँ का अहसास करवाता है।

एक चाहत जिसे पाने को,
              हर शख्स अधीर हो जाता है।
       राखी के एक धागे से,
              भैया का संसार महक जाता है।

एक बंधन जो बन्धन होकर भी,
              स्वतंत्र अहसास करवाता है ।
       रिश्ते को मजबूत बना,
             भाई को जिम्मेदार बनाता है।
                             
                                   डी पी माथुर