Search This Blog

Friday, August 28, 2015

रक्षा बन्धन

              रक्षा बन्धन

·       बन्धन होकर भी जो]
         स्वतंत्रता का] अहसास करा दे]
बहना की] एक मुस्कुराहट पर]
         भाई] अपना सर्वस्व लुटा दे]
वही राखी कहलाती है।
·       उत्साहित बहना] के सपनों को]
         भैया अपने पंख लगा दे]
सावन की पूर्णिमा का]
         जो रिश्तों में] प्रकाश फैला दे]
वही राखी कहलाती है।
·       उमड़ते घुमड़ते] प्यार से जो]
         मन में] एक सागर लहरा दे]
 खटटे मीठे] रिश्तों को जो]
        एक] अटूट बंधन बना दे]
वही राखी कहलाती है।
·       भौतिकता की आंधी से ]
        लड़खड़ाते रिश्तों में ]
फिर से] नव विश्वास जगा दे]
        प्यारे छोटे भैया को भी ]
रंग बिरंगा] सुन्दर धागा]
        जिम्मेदारी का] बोध करा दे]
वही राखी कहलाती है।

प्यारी बहनों को डी पी माथुर की स्वरचित रचना की स्नेहिल भेंट

Sunday, May 10, 2015

बड़ा हो गया हूँ

  •  तुम कहती थी ना ,

          कब बड़ा होगा, मेरा लाल,
    लो माँ,आज मैं बड़ा हो गया हूँ ,
         शायद इसीलिए, तुमसे बिछुड़ गया हूँ ,  
    जमाने की भीड़ में खो गया हूँ ,
          लो माँ, आज मैं बड़ा हो गया हूँ ,
  • खो दिया है मैने तुमको,

          अब सुकून कहाँ से आयेगा,
    सर्द रात में हौले से,
          अब कम्बल कौन ओढ़ाएगा,
    बिन मांगे ही सबमें मेरा,
         हिस्सा कौन दिलाएगा,
    बेटा झूँठ नही बोलता,
         मेरा झूँठ कौन छिपायेगा,
    खुलकर हँसता था,तेरे पास,
         अब छिपकर सिसक रहा हूँ ,
    लो माँ,आज मैं बड़ा हो गया हूँ ,
          जमाने की भीड़ में खो गया हूँ ,
  • मेरी छोटी छोटी बातों को,

        कौन, धैर्य से सुन पाएगा,
   पिता की डाँट से,
        अब कौन मुझे बचाएगा,
   देर से सोया था, सोने दो,
        ये सुकून कैसे मिल पाएगा,
   बुरी नजर से बचाने को,
        ललाट पर,चांद कौन बनाएगा,
   होकर भी अनजान हो गया हूँ ,
        लो माँ, आज मैं बड़ा हो गया हूँ ,
   जमाने की भीड़ में खो गया हूँ 
  • कुर्सी तो अब भी पड़ी है माँ

        पर तुम नजर नही आती,
   भोजन तो अब भी, पकता है माँ,
       पर खुशबू क्यूं नही आती,
   आन्टी तो,रोज दिखती है माँ,
       पर वो, अन्जु की माँ, नही पुकारती,
   सफाई वाली तो,अब भी आती है माँ,
       पर देखो ना, पुरानी साड़ी नही मांगती,
   ग्यारस तो अब भी आती है माँ,
       पर मन्दिर कीपुजारिन क्यूं नही आती,
   लिखता तो अब भी हूँ माँ,
       पर कोई गलती नजर नही आती,
   दिखावे के लिए मुस्कुरा रहा हूँ ,
       लो माँ,आज मैं बड़ा हो गया हूँ ,
   जमाने की भीड़ में खो गया हूँ ,

  
           माँ को कलम का समर्पण

          दुर्गा प्रसाद माथुर 10-05-2015

Sunday, March 08, 2015

मुस्कुरा जाती हूँ

ऽ     मुस्कुरा जाती हूँ ,जब तुम,
             अहंकार में भरकर,
      मुझे पुकारते हो अबला ।

ऽ    क्या सिर्फ इसलिए,
           कि, मैं कोमल हूँ ,
     भावनाओं से भरपूर हूँ ,
          या , एक सौम्य दिल रखती हूँ ,
     तुम्हारे अन्जान बंधनों में बंधी हूँ ,
         या , मात्र समर्पण ही दिखला पाती हूँ ,
     या फिर, सभी का हित करती हूँ ,

ऽ    बोलो ना, कैसा आकलन है तुम्हारा ?
         क्या सच में ये आकलन है ?
     या तुम्हारे वजूद का डर है।

ऽ    याद करो , जब जब तुम हारे हो,
         मैने ही जीत दिलायी है।
    जब जब , तुम कमजोर पड़े,
        मैने ही , शक्ति दिखाई है।
    तुम नहीं,
       जगदम्बा ही, दानव का, वध कर पाई है।
    तुम नहीं,
       लक्ष्मी बाई ही, तलवार की, धार दिखा पाई है।
    तुम नहीं,
      सरोजनी ही, कलम से, इतिहास रच पाई है।
    तुम नहीं,
      पन्ना धाय ही, बेटे की, बली चढ़ा पाई है।
    तुम नहीं,
      एक महिला ही , शहीद की माँकहलाई है।

ऽ    काहे तुम इठलाते हो, शायद भूल जाते हो ,
         तुम्हारे शरीर का , एक एक कतरा भी,
     एक महिला ही, बना पाई है।
         इसीलिए, बस मुस्कुरा जाती हूँ ,
    जब तुम, अहंकार में भरकर,

        मुझे पुकारते हो अबला ।

अनजान शक्ति

           
           यह आलेख मेरी धर्म पत्नि के सहयोग से बन पाया है जिसमें एक महिला के मन में उठते सवालों को कलमबद् करने का प्रयास किया गया है दरअसल एक लेखक पुरूष और स्त्री के बन्धन से ऊपर होता है उसकी कलम दिल और मन के संयुक्त होने से ही शब्दों को उकेर पाती है अर्थात वो तो बस एक लेखक होता है
             मैं कौन,बेटी,बहन,बहु,माँ या फिर दादी,नानी । अरे अरे आप अपने दिमाग पर ज्यादा बोझ मत डालिए शायद पहचान नही पायेंगे। और पहचानोगे भी तो कैसे मैं स्वयं अपने आप को नही पहचानती तो फिर आप कैसे पहचान सकते हैं।
            और हाँ शायद एक कारण ये भी है कि मैं दूसरों के लिए कार्य करने ओर सोचने में इतना व्यस्त हो गई कि अपनी पहचान उजागर करना ही भूल गई। और आज जब पहली बार दिल की जगह दिमाग से कार्य करना चाहा तो सबसे पहले उसी ने यह प्रश्न मुझसे पूछ लिया कि मैं कौन हूँ और क्या चाहती हूँ ।
            एक बार तो मैं सोच में पड़ गई लेकिन तुरन्त संभलते हुए जवाब दिया कि ससुराल ही अब मेरा घर है अतः मैं इस घर की बेटी हूँ तो दिमाग खिलखिला कर हँस पड़ा और बोला कैसी बेटी किसकी बेटी ? ओर जब तुम इस घर की बेटी हो तो ये पुरूष कौन है जो तुम्हारे जीवन का मालिक दिख रहा है जिसे तुम अपना पति कहती हो ? और सच पूछों तो इस प्रश्न पर मैं फिर से जीवन के अनेक अनसुलझे पहलुओं कि तरह निरूत्तर हो गई। अनमनी सी अपनी विफलता पर झुंझला कर चिर परिचित अंदाज में टीवी का रिमोट हाथ में ले उसके चैनल बदलने लगी। लेकिन ये क्या आज तो मानो यह भी मेरे दिमाग से मिल कर मेरा दुश्मन हो गया है। सभी चैनल पर अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष में महिलाओ को अधिकार और शक्ति देने का ही ढोल पीटा जा रहा था। आखिर दिमाग की बात मानकर मैं भी इस विषय पर अपने मन के भावों को उकेरने में व्यस्त हो गई।
            जहां तक मैं समझ पाई हूँ महिलाओं से जुड़े समस्त आर्थिक, सामाजिक, कानूनी, राजनैतिक अधिकारों के प्रति जागरूकता पैदा करके महिलाओं में आत्म विश्वास बढ़ाने से सम्बंधित कार्य ही महिलाओं का वास्तविक सशक्तिकरण है। लेकिन आज तो महिला दिवस या उनके सशक्तिकरण का विषय अधिकांश नेताओं, सरकारी या गैर सरकारी संगठनों की पसन्द का विष्य बन गया है जिसका इस्तेमाल वे अपना राजनैतिक कद बढ़ाने में कर रहे हैं। महिलाओं के अधिकारों का ढिंढोरा पीट कर एवं इस विषय पर विभिन्न आंदोलन, सम्मेलन एवं विचार गोष्ठियां आयोजित करके वे समाज के एक बडे़ वर्ग को भावनात्मक रूप से अपने साथ जोड़ने में कामयाब हो जाते हैं।
            हालांकि कुछ निस्वार्थ संगठनों के प्रयासों से महिलाओं में काफी जागरूकता आई है एवं उनका आत्म विश्वास भी बढ़ा है लेकिन तुल्नात्मक दृष्टि से देखा जाए तो यह नगण्य ही है। फिर भी मन में अनेक प्रश्न बार बार आते रहते हैं कि
  क्या वास्तव में महिला अशक्त ही जन्म लेती है ?
  क्या महिला बनने से पहले बालिका रूप में वह सशक्त होती है ?
         यदि यह मानव निर्मित समस्या है तो इसकी शुरूआत कहाँ से
   होती है ?
  क्या कभी इस समस्या का समाधान हो पायेगा ?
  क्या कभी महिला वास्तविक अधिकार पा सकेगी ?

             प्रश्नों का हल तलाशने से पहले हमें कुछ बातो को दोहराना होगा। दर असल जन्म के समय से ही बंधन को झेलती बालिका जब बड़ी होकर अपना घर बसा लेती है तो प्रत्यक्ष रूप से देखने पर ऐसा प्रतीत होता है कि उसका दायरा बढ़ गया है लेकिन सुक्ष्मता से देखा जाए या स्वयं उस महिला से पुछा जाए तो ज्ञात होता है कि उसका दायरा तो और सिमट गया है।
            पिता के घर में रहते हुए पिता के स्नेह की छांव और माँ के दुलार के बीच आकाश में स्वछंद उड़ने की तमन्ना सदा उसके दिल में बनी रहती थी। ओर नही तो कम से कम एक माँ रूपी ढाल सदा उसकी अभिव्यक्ति की रक्षा करने के लिए तैयार रहती थी ओर इसी छॉव और स्नेह के बीच वह अपने नन्हे पंखों को फैलाकर अपनी शिक्षा और अन्य गतिविधियों को पूर्ण करते करते अपने होने वाले स्वर्णिम भविष्य और सुखद जीवन की कल्पना को साकार करने का महत्वपूर्ण कार्य कर पाती है।
           लेकिन शादी के बाद ससुराल में उससे सभी की कामना अपने अपने कार्यो की पूर्णता तक ही सिमट कर रह जाती है सास ससुर चाहते हैं कि वह घर का काम संभालने के साथ साथ सभी की पूर्ण देखभाल भी करे।  जीवन साथी चाहता है कि सम्पूर्णता बस उसी पर न्योंछावर कर दें और आज के परिपेक्ष्य में तो नौकरी एवं आर्थिक रूप भी इसमें जुड़ गये हैं।
          इन सभी आवश्यकताओं को पूर्ण करते करते वह स्वयं अपने सपने और खुशियों को भूल ही जाती है और इन बंधनो में जकड़ कर रह जाती है प्रत्यक्ष रूप से देखने पर उसका दायरा बड़ा जरूर दिखता है परन्तु सुक्ष्मता से अघ्ययन करें तो वह एक छोटे दायरे में ही सिमट जाती है। चाहकर भी उससे बाहर नहीं निकल पाती।
        महिलाओं को क्या करना चाहिए क्या नही करना चाहिए यह निर्णय भी स्वयं महिलाओं ने ही दूसरों को दे रखा है। क्या महिलाएं इतनी सक्षम नही हैं कि अपने कार्यो का निर्णय स्वयं कर सकें ?
           अधिकांश महिलाओं ने अपनी सोच ही सदैव अनुसरण करने की बना ली है तो फिर शिकायत भी क्यूँ करें और किससे करें उस समाज से जिसने नारी का एक सीमित दायरा तय कर दिया है चाहे उसको सामाजिक, धार्मिक या संस्कारों का नाम दे दिया जाता है लेकिन वास्तव में,  है तो वह एक अघोषित बन्धन ही ना । और फिर वर्ततान परिस्थिति के अनुसार कोई नया प्रतिबंध लगाना होता है तो हमारे अपने ही उसे कुल परम्परां का नाम देकर लगाने में बिल्कुल नही हिचकिचाते हैं।
            एक प्रश्न जो सदैव निरूत्तर रह जाता है और हो सकता है आपके अर्न्तमन में भी यह प्रश्न कभी ना कभी आया हो कि क्या महिलाओं की सुरक्षा एवं अन्य क्रिया कलापों का जिम्मा दूसरों को दिया जाना चाहिए ? क्या एक निश्चित सीमा से ज्यादा किसी का दखल नारी को वास्तविक स्वतंत्रता प्रदान कर पायेगा ?
         हमें यह बात भली भाँति समझ लेनी चाहिए कि कोई भी वर्ग हो पहले वो अपना हित देखेगा फिर ही दूसरों की भलाई के बारे में सोचेगा। क्या अभी भी महिलाएं यही समझती हैं कि इस तरह से सही मायने में महिला सशक्त हो पाएगी ? शायद नही,  तो क्या करना चाहिए ? आखिर एक नारी चाहती क्या हैं ?  नारी मात्र यही तो चाहती हैं कि
ऽ   कोई उसके प्रति संकीर्ण मानसिकता नही रखें।
ऽ   उसे अपने निजी निर्णय लेने की स्वतंत्रता हो।
ऽ   वो मात्र बहु,बहन,बेटी,माँ इन रिष्तों से ही नही पहचानी जाए उसकी स्वतंत्र पहचान हो सकें।
ऽ   नारी कोई खिलौना नही जिसमें चाबी भरकर चलाया जा सकें वह अपनी इच्छा से चल सकें।
          लेकिन ये सब होगा कैसे इसके लिए सरकार और जो संस्थाएं यह कार्य कर रही हैं वे तो अपना कार्य करती ही रहेगी लेकिन जब तक महिलाएं स्वयं की सहायता स्वयं नही करेगी कोई भी कानून या संस्था उनमें आत्मविश्वास नही भर पायेगी। इस सम्बंध में आपके जहन में भी अनेकों सुझाव आ रहे होंगे शायद उसमे से कुछ सुझाव निम्न भी हों।
    सर्व प्रथम समस्त महिलाओं को यह सोच बदलनी होगी कि हम आश्रित हैं। और यह तब ही संभव हो पायेगा जब महिलाएं आर्थिक रूप से सक्षम होंगी।
ऽ   आर्थिक सक्षमता तब ही संभव है जब प्रत्येक महिला शिक्षित होगी । इसके लिए बालिका शिक्षा पर ध्यान केन्द्रित करके विभिन्न माध्यमों से जागरूकता फैलाकर प्रत्येक बालिका को शिक्षित करना होगा।
ऽ   प्रत्येक महिला के दिलो दिमाग से डर का भूत निकाल कर जो महिला शिक्षित ना सकें उसे अन्य रोजगार पुरक कार्यो के लिए प्रेरित करना होगा।
ऽ   प्रत्येक महिला आर्थिक स्वतंत्रता के लिए दूसरी महिला की हर संभव सहायता करें ।
ऽ   महिलाओं को राजनैतिक रूप से बिना जाति पांति भेदभाव के महिलाओं का समर्थन करके अपना वर्चस्व बढ़ाना होगा जिससे ऐसे कठोर कानून बनाने के लिए सरकारों को बाध्य कर सकें जिससे रोजगार में बराबरी का आरक्षण निश्चित किया जा सकें।
ऽ   जिस दिन प्रत्येक महिला रोजगार प्राप्त कर लेगी सही मायने में 75 प्रतिशत महिला सशक्त हो जायेगी इसका प्रत्यक्ष उदाहरण हमारे शहरों में रहने वाली कामकाजी महिलाएं हैं।
ऽ   एक महत्वपूर्ण और कठिन कार्य हमें मिलकर करना होगा, वह है जीवन के विभिन्न पहलूओं पर सही निर्णय लेने की निर्भरता को कम करना ।
ऐसा नही है कि हमारे परिवार के पुरूष इसमें हमारी सहायता नही कर रहे हैं या सभी निर्णय गलत लिये जो रहे हों लेकिन किसी का विटो पॉवर बन कर उभरना अच्छा नही है। कॉमन विषय पर साझा निर्णय लेना सदैव हितकर रहता है।
ऽ   निर्णय लेने की क्षमता में एक महिला दूसरी महिला से सुझाव लेकर भी यह कार्य ज्यादा अच्छे ढंग से कर सकती है। इससे महिलाओं में आत्म विश्वास बढ़ेगा।

           यह सत्य है कि महिलाओं का हृदय कोमल होता है और किसी भी वर्ग को कष्ट देना या किसी का अहित उनसे सहन नही होता है लेकिन कोमलता का मतलब यह भी नही कि कोई भी उन्हें कुचल दे। यह भी सत्य है कि हम पुरूष प्रधान समाज में रह रहे हैं जहाँ अपना सर्वस्व न्यौछावर करके भी नारी को प्रथम दर्जा प्राप्त है आज सम्पूर्ण सक्षमता होने के बावजूद उसे किसी भी विषय पर निर्णय लेने से पहले पुरूषों की मौन स्वीकृति लेनी पड़ती है। यहां ऐसा कहने का तात्पर्य ये बिलकुल नही है कि पुरूष समाज को नजर अंदाज कर दिया जाए। क्योंकि हम यह भी जानते हैं कि एक सुखद परिवार के लिए जितना एक महिला जिम्मेदार है उतना ही एक पुरूष भी जिम्मेदार है लेकिन जब तक प्रत्येक नारी के भीतर छिपी असुरक्षा की भावना को पूर्ण रूप से खत्म नही किया जा सकेगा तब तक नारी अपनी सही ताकत तथा चुनौतियों से लड़ने की क्षमता को विकसित नही कर पायेगी।
         अन्त में कह सकते हैं कि दर असल यह समस्या शारीरिक ना होकर मानसिक ज्यादा है। अर्थात प्रकृति के अनुसार तो एक महिला एक पुरूष से ज्यादा सक्षम है तभी तो उसे पुरूष से ज्यादा सहनशीलता का अधिकार, जन्म देने का अधिकार और भी अनेक विशिष्ठताएं प्रदान कि गई है। लेकिन संकीर्ण मानसिकता के कारण ही उसे कमजोर आंका जाता है अतः आज प्रत्येक महिला कम से कम ये प्रण जरूर लें कि एक महिला होकर दुसरी महिला के अधिकारों का हनन नही करूंगी और ना ही अपने सामने किसी नारी के अधिकारों को कुचलने दूंगी तब ही सम्पूर्ण समाज की मानसिकता को बदला जा सकेगा।

        यदि अन्जाने में इस आलेख की किसी पंक्ति से आपकी भावनाओं को ठेस लगी हो तो आपसे पुनः क्षमा चाहूंगा। यह सब लिखने के पीछे मेरा उद्धेश्य आपका ध्यान इस ओर आकर्षित करने का प्रयास मात्र है क्योंकि प्रयास प्रारम्भ करना ही किसी मंजिल को पाने का सर्वोत्तम तरीका है।

Saturday, November 02, 2013

दीपोत्सव

            आखिर इंतजार खत्म हुआ ........ सच इस कार्तिक माह की अमावस्या ने कितना इंतजार करवाया, और स्वागत की तैयारियो ने तो मेरे बजट की गाड़ी पटरी से ही उतार दी, चलो कोई बात नही, असत्य पर सत्य की विजय और अंघकार पर उजाले की छटा बिखेरने वाले दीपोत्सव पर्व की खुशियों के लिये सब मंजूर है।

         आज किसी बच्चे को प्रातः जगाने के लिए आवाज नही लगानी पडी, घर में खुशनुमा माहौल है, लग रहा है कि घर के प्रत्येक कोने में साफ और सुन्दर दिखने की होड लगी है और किचन से आती पकवानों व मिठाइयों की खुशबू से तो ऐसा लग रहा है मानो किचन तो अपनी गृह स्वामिनी के साथ मिलकर शाम होने से पहले ही अपने आप को विजेता घोषित करवा लेना चाहती है ।

        मेरे हिस्से हर दिपावली की भाँति इस बार भी मन्दिर का कमरा और पूजा की तैयारियों का काम आया है, मैंने अपनी दोनों बेटियों के साथ मिलकर जल्दी से मन्दिर की सफाई करवाई और पूजा के प्रथम चरण मांडणा (रंगोली) के लिए पुत्रियों को लगाया । मांडणे मे स्वास्तिक बनाते हुए पुत्री ने पूछा, ये स्वास्तिक क्यों बनाते हैं ? जवाब में मैंने अपनी माँ से विरासत में मिले ज्ञान को उन्हे बताते हुए कहा कि हमें प्रत्येक शुभ कार्य की शुरुआत स्वास्तिक चिन्ह बनाकर करनी चाहिये क्योंकि यह सुख-सौभाग्य, मंगल कामना का द्योतक तथा सूर्य और भगवान विष्णु का प्रतीक माना जाता है, इसकी खडी व आडी रेखाओ से मिलकर बनने वाला +चिन्ह हमें चारो दिशाओं का प्रतीक है इसके मध्य भाग को भगवान विष्णु की नाभि, चारों रेखाओं को ब्रह्मा जी के चारों मुख एवं चारों भुजाओं को चारों वेद माना जाता है । स्वास्तिक चिन्ह देवताआंे का ओज (तेज) स्वरुप है जो हमारे जीवन में शुभता लाता है इसीलिए व्यापारी वर्ग इसे शुभ-लाभ का प्रतीक भी मानते हैं ।

        पुत्रियाँ मन्दिर का मांडणा (रंगोली) पूरा कर बाहर देहरी  तथा आंगन मे मांडणा मांडणे चली गई थी और मैं इस त्यौहार के मुख्य पात्र मिट्टी के दीपकों को स्वच्छ पानी मे डालते हुए सोचने लगा कि इंसान और इस मिट्टी के दीपक में कितनी समानता होती है। इंसानो की ही तरह दीपक भी पंच तत्वों  ( मिट्टी , पानी, हवा, वातावरण, आग) से बना होता है । इसे बनाने वाला कुम्हार तालाब की मिट्टी को कूट-कूट कर, पानी मिलाकर लोना बनाता है फिर उसे चाक पर लगाकर अपने कुशल शिल्पी हाथों से दीपक के आकार का सृजन करता है फिर उसे सुखाकर धीमीं-धीमीं आग में पकाता है अर्थात् कुम्हार भी हमारी जन्मदात्री माँ की तरह दीपक की माँ बनकर उसे पूर्ण रुप प्रदान करता है । इस बातों को सोचते सोचते मेरा मन भावुक हो उठा , मेरे मन में दीपक क्या सोचते हैं या क्या बातें करते हैं यह सुनने की जिज्ञासा जाग गई और मैं मन ही मन लक्ष्मी माँ से इनसे बातें करने की शक्ति मांगने लगा............, 

         अरे, ये क्या मुझे तो सचमुच दीपकों के बीच चल रही बहस सुनाई देने लगी । एक नौजवान दीपक कुम्हार पर नाराज होते हुए कह रहा था मुझे दीपक नही बनना था मुझे तो एक फूलदान का आकार चाहिये था जिससे  मुझे कोई सुन्दर सी लड़की खरीद कर अपने घर ले जाती, मुझे संवारती, फूल लगाती और इठलाती हुई ड्राइंग रुम में सजाती । दूसरा दीपक उसकी बात काटते हुए बोला, ड्राइंग रुम मे रखे-रखे जब कई दिन तक तुम्हारे ऊपर से धूल नहीं हटायी जाती तो तुम्हे कैसा लगता , इसीलिये मुझे तो दुर्गा या गणपति की बड़ी मूर्ति बनना था जिससे लोग कई दिनो तक मेरे दर्शन करते, पूजा अर्चना करते फिर बैण्ड बाजों के साथ मेरा विसर्जन किया जाता । इसकी बात काटते हुए बीच में ही तीसरा दीपक बोल उठा आजकल इंसान ने शहरों में विसर्जन के लिए स्वच्छ तालाब या नदियां छोड़ी ही कहाँ हैं , यदि तुम्हारा विसर्जन करने की बजाय कम पानी में तुम्हें छोड दिया जाता तो तुम्हें कितना कष्ट होता, इसीलिए मेरी इच्छा तो ऐसा खिलौना बनना था जिससे मैं देव स्वरुप बच्चों के संग खेलता और उनका मन मोह लेता, वे मेरे सिर पर बने छेद से पैसे डालकर बचत करने की आदत भी सीखते । चौथे दीपक ने उसकी तरह मुँह बनाते हुए कहा, आजकल बाजार मे सस्ते रंग बिरंगे चीनी खिलौने आ गये हैं,  नये बच्चे तो मिट्टी के खिलौने जानते ही नही हैं जब तुम्हे कोई नही खरीदता तो तुम्हे बनाने वाले कुम्हार का दिल कितना दुखता, सोचा है तुमने, इसलिये मैं तो मिट्टी का वह तवा बनना चाहता था जिसे कोई गरीब आदमी खरीद कर जब घर ले जाता तो मुझे देखते ही उसकी पत्नि खुश हो जाती, मैं चूल्हे पर आग सहकर भी उसके परिवार को मुलायम रोटियां सेककर खिलाता तो मेरा जीवन धन्य हो जाता।

         इसी बहस में अन्य दीपक भी बोलना चाह रहे थे लेकिन सबसे बडे दीपक ने बहस बढ़ते देख सबको समझाते हुऐ कहा, कोई भी आकार या रुप छोटा बड़ा नहीं होता है हमारे कर्म हमें छोटा या बड़ा बनाते हैं इसीलिए प्रकृति ने कुम्हार के माध्यम से तुम्हें जो स्वरुप प्रदान किया है वह सर्वश्रेष्ठ है। आज हम लक्ष्मी माँ के पूजन मे रखे जायेंगे ये हमारा सौभाग्य है। अभी जब हम बाती, तेल, वायु और अग्नि के साथ मिलकर एक सयुंक्त परिवार के रुप मे प्रकाश फैलायेंगे तो अज्ञानता का अंघेरा हमारे प्रकाश से डरकर दूर चला जायेगा जिससे हमारा यह जन्म सार्थक हो जायेगा। हमारा कर्म हमें आकार में छोटा होते हुए भी सभी से महान बना देगा ।
     
        सभी दीपकों की बहस सुनते सुनते मैंने उन्हें जल से निकाल कर उनमें बाती, तेल व प्रसाद आदि रखकर पूजा के लिये तैयार कर  दिया था और पटाखों की थैली से पटाखे निकाल कर बाहर रख रहा था कि अचानक चौंक कर रुक गया  मुझे उनकी भी बातें सुनाई दे रही थी उत्सुकता से मैं उनकी बहस सुनने लगा, एटम बम बडे गुरुर मे भरकर कह रहा था मैं सर्व शक्तिमान हूँ मुझे कमजोर दिल वाले तो चलाने की हिम्मत ही नहीं करते और जब मैं फूटता हूँ तो अच्छे- अच्छे काँप जाते हैं। उसकी बात खत्म होने से पहले ही अनार बीच में बोलने लगा, इसीलिए तुम्हें ज्यादा लोग पसन्द भी नही करते हैं मुझे देखो महिलाएँ, बच्चे और बडे़ सभी बड़े चाव से मेरी बाती में आग लगाते हैं और मैं जलते समय अपने अन्दर भरे रंग बिरंगे सितारांे को पूरे वेग से निकाल कर रात में भी दिन सा प्रकाश फैला देता हूँ । इस बहस में जमीन चक्कर कहाँ चुप रहने वाली थी वो भी बोलने लगी मेरी तरह रोशनी फैलाते हुए कोई नही नाच सकता, मौका देख बमों की लड़ी भी अपनी एकता के आगे कोई नही टिक सकने का पाठ पढ़ाते हुए इतराने लगी । 
      
         शायद बड़ी फूलझड़ी मेरी और घ्यान से देख रही थी इसीलिए उसने सभी को शांत करते हुए कहा,  तुम सभी अच्छे हो लेकिन कुछ बातें मुझसे सीखो, जैसे मैं बच्चों से बड़ो तक सभी को पसन्द आती हूँ , मेरे शरीर में घातु का तार होने पर भी मैं शिकायत नही करती, मुझे जलाने के लिये काफी धैर्य रखना पड़ता है अर्थात् मैं धैर्य शीलता का पाठ पढ़ाती हूँ , मैं जलने पर सितारों वाली रोशनी फैलाती हूँ । मेरे से अन्य पटाखो में आग लगाई जाती है अर्थात् मैं दूसरों के काम आती हूँ  , पूरी जलने के बाद भी मेरे तार को एक तरफ रखा जाता है जो मेरी शक्ति का प्रतीक है। मैं तुम सभी से बड़ी होने के नाते समझा रही हूँ हमें आपस में बहस नही करनी चाहिए क्योंकि हम सभी बारी बारी से जलकर ही सभी को पूर्ण आनन्द देते हैं ।

         पूजा की तैयारी हो गई क्या..............? नये कपडे़ पहन लो मुहूर्त का समय होने वाला है, इस आवाज ने मेरा घ्यान वापस तोड़ा, सभी जल्दी से तैयार हुए और सपरिवार लक्ष्मी जी, गणेश जी और सरस्वती माँ की पूजा की । सभी मंदिरों में दीपक रख कर आए फिर लक्ष्मी जी के सामने फूलझडियाँ जलाई और सभी बड़ों को प्रणाम कर बाकी पटाखे लेकर बाहर खुले में आ गये । सभी आने वालों को शुभ कामनाएँ देते हुए पटाखे जलाने लगे, आपको भी दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ, आपकी पूजा पूर्ण हो गई हो तो आ जाइये पटाखे जलाते हैं।

डी पी माथुर