Search This Blog

Sunday, August 04, 2013

क्यूं

         मुझे क्यूं लगता है , तुम्हे खो दुंगा ,
                                   तुम्हें पा लिया है ,
         ये भी तो मात्र एक भ्रम है !


         जाने क्यूं लगता है ,रो दुंगा ,
                                 हँस रहा हूँ ,
         ये भी तो मात्र एक भ्रम है !
                     नदी के किनारों सा,
         साथ चलते चलते ,
              क्यूं समझता हूँ ,मिलन होगा !
        अनवरत साथ बह पा  रहा हूँ ,
                 ये भी तो मात्र एक भ्रम है !


        जाने क्यूं समझता हूँ ,
                   तुम, ये, वो सब मेरा है !
        शाष्वत सच ये कहता है ,
                   जो भोग लिया वो सपना है ! ,
        जो उकेर दिया भाव ,वो अपना है !
                   प्रकृति का मात्र यही एक क्रम है !
         सात जन्मों का साथ,
                   भी तो मात्र एक भ्रम है !


         क्यूं यादों में खो जाते हैं ,
                   याद उन्हें कर जाते हैं ,
         बगैर किसी के चाहे भी ,
                   ख्वाबों में बसा जाते हैं !
         बिन उनके जी नही पायेंगे ,
                   प्यार का , ये कैसा क्रम है  ,
         जो सच ना होकर ,
                    मात्र मन का ही भ्रम है !


         जीवन का हर छोटा पल ,
                माँ की याद दिलाता है !
         साया सा हरदम उसका,
                निशछल अहसास कराता है !
         प्यार भरी ममता के आगे ,
                  सब बौना रह जाता है,
        यही मात्र एक ऐसा क्रम है ,
                 जो भ्रम नही , एक सच्चा क्रम है !
 

                पूर्व में ओ बी ओ पर प्रकाशित मेरी रचना ।