Search This Blog

Monday, August 19, 2013

बरखा


  • आई बरखा, झूमा तन मन, 

                            सब अच्छा लगता है।
         टूटी सड़कें, फैला कीचड़,
                            कुछ भद्दा लगता है।


  • बच्चों की किलकारी, चँहू ओर हरियाली,

                         सब अच्छी लगती है।
          मजदूर की दिहाड़ी, मौसमी बिमारी,
                         मन में पीड़ा भरती है।


  • नाचते मोर के पंख, कागज की नावें,

                       मन को हर्षाती है।
         भूखे पक्षी, आसरे को तरसते बेघर,
                      दिल में धाव दे जाती है।


  • पकौड़ों की खुशबु , चाय की चुस्की,

                      मेल मिलाप बढ़ाती हैं।
          स्कूल की मजबूरी, दफतर की लाचारी,
                      कुछ भारी पड़ जाती है।


  • गिरती बूँदें , भीगती धरती,

                    नव अंकुरण करवाती है।
           उफनती नदियां, डूबती बस्तियां,
                    जीवन लील जाती है।


  • रिमझिम वर्षा, धरती में समाकर,

                    जलस्तर बढ़ाती हैं।
          कहर ढ़ाती नदियां, उफनते समुंद्र,
                    मछुआरों की पीड़ा बढ़ाती है।
 
                  डी पी माथुर