Search This Blog

Tuesday, April 09, 2013

प्रेरणा




        क्या मैं लिखता हूँ ? शायद कोई है जो लिखवाता है !
                                कलम हाथ में लूं , तो भावों में चला आता है। !
        जब भी महसूस करूं अकेला , पास खिंचा आता है ।
                              मन के भावों में गोता लगा , पंक्तियां बन उभर जाता है ।
        क्या मैं लिखता हूँ ? शायद कोई है जो लिखवाता है !!

       
         जब भी सोचता हूँ , झिलमिल चेहरा सा उभर आता है !
                          सच मे ना सही , पर प्रेरणा बन जाता है !
         वो मुस्कराहट, अलहड़पन, भोलापन जो मन को भाता है ।
                         वो ही तो मेरे , मन में बस जाता है !!
         माँ, बहन, प्यार, पुत्री ये ही तो नाम बताता है  !
                         सही पहचान पाया हूँ , वो ही तो लिखवाता है।
        मन में आकर मेरे , कलम की प्रेरणा बन जाता है !!

 
        चाहता हूँ उतार दूँ कर्ज उसका, हटा दूँ आवरण और उड़़ जाँऊ !
                             स्वच्छ वातावरण में, जो उसने दिखलाया है !!
        लेकिन क्या भूल पाता हूँ ?
                             जब भी होता हँू अकेला , जाने क्यूं वो चला आता है। !
        और फिर से याद बन , कलम से उभर जाता है !
                           इसी याद में खोकर , ज्यादा लिखने की प्रेरणा पाता हूँ !
         लिखते लिखते ही नई नई पंक्तिया बनाता हूँ
                           क्या मैं लिखता हूँ ? शायद कोई है जो लिखवाता है !!